http://WWW.PANCHKARMAAYURVED.COM
http://WWW.PANCHKARMAAYURVED.COM

Checking delivery availability...

background-sm
Search

Dr. Anurag Jain (MD ayurved) Ayurved Foundation

Welcome tO Ayurved Foundation AYURVEDIC TREATMENT CENTER Ayurved Foundation - is Indore’s most traditionally well established, professional and innovative providers of Classical Ayurvedic Health services and Panchakarma therapies. Ayurveda is the ancient Indian Health Science developed through centuries’ long research works of sages, who were eminent scholars. Though the term "Ayurveda" denotes 'the knowledge of life', it is not only the system to cure diseases but also a method to achieve "Perfect Health". It provides the ways to improve the quality of life both physical and mental and helps to attain the bliss of real life. BEST AYURVED HERBAL TREATMENT IN INDORE| HERBAL MEDICINES FOR SINUSITIS IN INDORE | ALLERGIC RHINITIS IN INDORE| EXCESSIVE SNEEZING IN INDORE | CONGESTION IN NOSE IN INDORE | NASAL POLYPS AND UPPER RESPIRATORY TRACT DISORDERS IN INDORE | BEST AYURVED HERBAL TREATMENT IN INDORE | EXPERIENCED AYURVED DOCTOR IN INDORE | BEST PANCH KARMA THERAPY TREATMENT IN INDORE | AYURVED HERBAL TREATMENT IN INDORE | HERBAL MEDICINE IN INDORE | BEST AYURVED HERBAL TREATMENT IN INDORE | HERBAL MEDICINES FOR SINUSITIS IN INDORE | HERBAL MEDICINES FOR ALLERGIC RHINITIS IN INDORE | HERBAL MEDICINES FOR EXCESSIVE SNEEZING IN INDORE | HERBAL MEDICINES FOR CONGESTION IN NOSE IN INDORE | HERBAL MEDICINES FOR NASALPOLYPS IN INDORE | HERBAL MEDICINES FOR UPPER RESPIRATORY TRACT DISORDERS. BEST AYURVED DOCTOR IN INDORE | HERBAL TREATMENT IN INDORE | HERBAL MEDICINES FOR SINUSITIS IN INDORE | ALLERGIC RHINITIS TREATMENT IN INDORE |EXCESSIVE SNEEZING TREATMENT IN INDORE | CONGESTION IN NOSE / NASAL POLYPS AND UPPER RESPIRATORY TRACT DISORDERS IN INDORE. BEST AYURVED HERBAL TREATMENT In INDORE | HERBAL MEDICINES FOR PRE MATURE HAIR FALL IN INDORE | HAIRLOSS TREATMENT IN INDORE | ALOPECIA TREATMENT IN INDORE | BALDNESS TREATMENT IN INDORE | REGROWTH OF HAIR TREATMENT IN INDORE | DANDRUFF / HAIR & SCALP DISORDERS IN INDORE

Please keep +91 before the number when you dial.
  • M-8, Amar Darshan, Saket Anand Bazar Square, Old Palasia.
    Indore

Latest Update

#सेंधा_नमक भारत से कैसे गायब कर दिया गया, शरीर के लिए Best Alkalizer है :- आप सोच रहे होंगे की ये सेंधा नमक बनता कैसे है ?? आइये आज हम आपको बताते हैं कि नमक मुख्य कितने प्रकार होते हैं। एक होता है समुद्री नमक दूसरा होता है सेंधा नमक (rock salt) । सेंधा नमक बनता नहीं है पहले से ही बना बनाया है। पूरे उत्तर भारतीय उपमहाद्वीप में खनिज पत्थर के नमक को ‘सेंधा नमक’ या ‘सैन्धव नमक’, लाहोरी नमक आदि आदि नाम से जाना जाता है । जिसका मतलब है ‘सिंध या सिन्धु के इलाक़े से आया हुआ’। वहाँ नमक के बड़े बड़े पहाड़ है सुरंगे है । वहाँ से ये नमक आता है। मोटे मोटे टुकड़ो मे होता है आजकल पीसा हुआ भी आने लगा है यह ह्रदय के लिये उत्तम, दीपन और पाचन मे मदद रूप, त्रिदोष शामक, शीतवीर्य अर्थात ठंडी तासीर वाला, पचने मे हल्का है । इससे पाचक रस बढ़्ते हैं। तों अंत आप ये समुद्री नमक के चक्कर से बाहर निकले। काला नमक , सेंधा नमक प्रयोग करे, क्यूंकि ये प्रकर्ति का बनाया है ईश्वर का बनाया हुआ है। और सदैव याद रखे इंसान जरूर शैतान हो सकता है लेकिन भगवान कभी शैतान नहीं होता। भारत मे 1930 से पहले कोई भी समुद्री नमक नहीं खाता था विदेशी कंपनीया भारत मे नमक के व्यापार मे आज़ादी के पहले से उतरी हुई है , उनके कहने पर ही भारत के अँग्रेजी प्रशासन द्वारा भारत की भोली भली जनता को आयोडिन मिलाकर समुद्री नमक खिलाया जा रहा है, हुआ ये कि जब ग्लोबलाईसेशन के बाद बहुत सी विदेशी कंपनियो (अनपूर्णा, कैपटन कुक ) ने नमक बेचना शुरू किया तब ये सारा खेल शुरू हुआ ! अब समझिए खेल क्या था ?? खेल ये था कि विदेशी कंपनियो को नमक बेचना है और बहुत मोटा लाभ कमाना है और लूट मचानी है तो पूरे भारत मे एक नई बात फैलाई गई कि आओडीन युक्त नामक खाओ , आओडीन युक्त नमक खाओ ! आप सबको आओडीन की कमी हो गई है। ये सेहत के लिए बहुत अच्छा है आदि आदि बातें पूरे देश मे प्रायोजित ढंग से फैलाई गई । और जो नमक किसी जमाने मे 2 से 3 रूपये किलो मे बिकता था । उसकी जगह आओडीन नमक के नाम पर सीधा भाव पहुँच गया 8 रूपये प्रति किलो और आज तो 20 रूपये को भी पार कर गया है। दुनिया के 56 देशों ने अतिरिक्त आओडीन युक्त नमक 40 साल पहले ban कर दिया अमेरिका मे नहीं है जर्मनी मे नहीं है फ्रांस मे नहीं , डेन्मार्क मे नहीं , डेन्मार्क की सरकार ने 1956 मे आओडीन युक्त नमक बैन कर दिया क्यों ?? उनकी सरकार ने कहा हमने मे आओडीन युक्त नमक खिलाया !(1940 से 1956 तक ) अधिकांश लोग नपुंसक हो गए ! जनसंख्या इतनी कम हो गई कि देश के खत्म होने का खतरा हो गया ! उनके वैज्ञानिको ने कहा कि आओडीन युक्त नमक बंद करवाओ तो उन्होने बैन लगाया। और शुरू के दिनो मे जब हमारे देश मे ये आओडीन का खेल शुरू हुआ इस देश के बेशर्म नेताओ ने कानून बना दिया कि बिना आओडीन युक्त नमक भारत मे बिक नहीं सकता । वो कुछ समय पूर्व किसी ने कोर्ट मे मुकदमा दाखिल किया और ये बैन हटाया गया। आज से कुछ वर्ष पहले कोई भी समुद्री नमक नहीं खाता था सब सेंधा नमक ही खाते थे । सेंधा नमक के फ़ायदे:- सेंधा नमक के उपयोग से रक्तचाप और बहुत ही गंभीर बीमारियों पर नियन्त्रण रहता है । क्योंकि ये अम्लीय नहीं ये क्षारीय है (alkaline) क्षारीय चीज जब अमल मे मिलती है तो वो न्यूटल हो जाता है और रक्त अमलता खत्म होते ही शरीर के 48 रोग ठीक हो जाते हैं । ये नमक शरीर मे पूरी तरह से घुलनशील है । और सेंधा नमक की शुद्धता के कारण आप एक और बात से पहचान सकते हैं कि उपवास , व्रत मे सब सेंधा नमक ही खाते है। तो आप सोचिए जो समुंदरी नमक आपके उपवास को अपवित्र कर सकता है वो आपके शरीर के लिए कैसे लाभकारी हो सकता है ?? सेंधा नमक शरीर मे 97 पोषक तत्वो की कमी को पूरा करता है ! इन पोषक तत्वो की कमी ना पूरी होने के कारण ही लकवे (paralysis) का अटैक आने का सबसे बढ़ा जोखिम होता है सेंधा नमक के बारे में आयुर्वेद में बोला गया है कि यह आपको इसलिये खाना चाहिए क्योंकि सेंधा नमक वात, पित्त और कफ को दूर करता है। यह पाचन में सहायक होता है और साथ ही इसमें पोटैशियम और मैग्नीशियम पाया जाता है जो हृदय के लिए लाभकारी होता है। यही नहीं आयुर्वेदिक औषधियों में जैसे लवण भाष्कर, पाचन चूर्ण आदि में भी प्रयोग किया जाता है। समुद्री नमक के भयंकर नुकसान :- ये जो समुद्री नमक है आयुर्वेद के अनुसार ये तो अपने आप मे ही बहुत खतरनाक है ! क्योंकि कंपनियाँ इसमे अतिरिक्त आओडीन डाल रही है। अब आओडीन भी दो तरह का होता है एक तो भगवान का बनाया हुआ जो पहले से नमक मे होता है । दूसरा होता है “industrial iodine” ये बहुत ही खतरनाक है। तो समुद्री नमक जो पहले से ही खतरनाक है उसमे कंपनिया अतिरिक्त industrial iodine डाल को पूरे देश को बेच रही है। जिससे बहुत सी गंभीर बीमरिया हम लोगो को आ रही है । ये नमक मानव द्वारा फ़ैक्टरियों मे निर्मित है। आम तौर से उपयोग मे लाये जाने वाले समुद्री नमक से उच्च रक्तचाप (high BP ) , डाइबिटीज़, आदि गंभीर बीमारियो का भी कारण बनता है । इसका एक कारण ये है कि ये नमक अम्लीय (acidic) होता है । जिससे रक्त अम्लता बढ़ती है और रक्त अमलता बढ्ने से ये सब 48 रोग आते है । ये नमक पानी कभी पूरी तरह नहीं घुलता हीरे (diamond ) की तरह चमकता रहता है इसी प्रकार शरीर के अंदर जाकर भी नहीं घुलता और अंत इसी प्रकार किडनी से भी नहीं निकल पाता और पथरी का भी कारण बनता है । ये नमक नपुंसकता और लकवा (paralysis ) का बहुत बड़ा कारण है समुद्री नमक से सिर्फ शरीर को 4 पोषक तत्व मिलते है ! और बीमारिया जरूर साथ मे मिल जाती है ! रिफाइण्ड नमक में 98% सोडियम क्लोराइड ही है शरीर इसे विजातीय पदार्थ के रुप में रखता है। यह शरीर में घुलता नही है। इस नमक में आयोडीन को बनाये रखने के लिए Tricalcium Phosphate, Magnesium Carbonate, Sodium Alumino Silicate जैसे रसायन मिलाये जाते हैं जो सीमेंट बनाने में भी इस्तेमाल होते है। विज्ञान के अनुसार यह रसायन शरीर में रक्त वाहिनियों को कड़ा बनाते हैं, जिससे ब्लाक्स बनने की संभावना और आक्सीजन जाने मे परेशानी होती है। जोड़ो का दर्द और गढिया, प्रोस्टेट आदि होती है। आयोडीन नमक से पानी की जरुरत ज्यादा होती है। 1 ग्राम नमक अपने से 23 गुना अधिक पानी खींचता है। यह पानी कोशिकाओ के पानी को कम करता है। इसी कारण हमें प्यास ज्यादा लगती है। निवेदन :पांच हजार साल पुरानी आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में भी भोजन में सेंधा नमक के ही इस्तेमाल की सलाह दी गई है। भोजन में नमक व मसाले का प्रयोग भारत, नेपाल, चीन, बंगलादेश और पाकिस्तान में अधिक होता है। आजकल बाजार में ज्यादातर समुद्री जल से तैयार नमक ही मिलता है। जबकि 1960 के दशक में देश में लाहौरी नमक मिलता था। यहां तक कि राशन की दुकानों पर भी इसी नमक का वितरण किया जाता था। स्वाद के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी होता था। समुद्री नमक के बजाय सेंधा नमक का प्रयोग होना चाहिए। आप इस अतिरिक्त आओडीन युक्त समुद्री नमक खाना छोड़िए और उसकी जगह सेंधा नमक खाइये !! सिर्फ आयोडीन के चक्कर में समुद्री नमक खाना समझदारी नहीं है, क्योंकि जैसा हमने ऊपर बताया आओडीन हर नमक मे होता है सेंधा नमक मे भी आओडीन होता है बस फर्क इतना है इस सेंधा नमक मे प्राकृतिक के द्वारा भगवान द्वारा बनाया आओडीन होता है इसके इलावा आओडीन हमें आलू, अरवी के साथ-साथ हरी सब्जियों से भी मिल जाता है।आयोडीन लद्दाख को छोड़ कर भारत के सभी स्थानों के जल में प्राकृतिक रूप से पाया जाता है। Welcome to world of pure ayurved & panch karma treatment we provide fast & lasting relief in all ch. & acute diseases. Dr Anurag Jain MD (ayurved). Ayurved Foundation Indore Dr. Anurag Jain MD ayurved M 8 amardarshan saket anand bzr sqr near saket pan corner Indore Ph. 9826802221 Time 12.00 - 5.00 06.00 - 8.30
Send Enquiry
Read More
BEST AYURVED HERBAL TREATMENT HERBAL MEDICINES FOR HYPER ACIDITY / ACID PEPTIC DISORDER / GASTRO ESOPHAGEAL REFLUX DISEASE (GERD) / HEART BURN / ACID REFLUX / GASTRIC REFLUX DISORDERS IN INDORE. BEST AYURVED HERBAL TREATMENT WITH EXCELLENT RESULTS BY MOST QUALIFIED & EXPERIENCED AYURVED DOCTOR - COMPLETE, PERMANENT, EASY, SAFE, FAST & COST EFFECTIVE AYURVED & PANCH KARMA THERAPY Gastro Esophageal Reflux Disease (GERD) Gastro esophageal reflux disease, also known as GERD, is a medical condition in which there is damage to the lower part of the esophagus due to reflux of acid from the stomach. This can be due to excessive acid secretion, mucosal damage, an inefficient lower esophageal sphincter, and lifestyle issues. Treatment involves making lifestyle modifications like reducing weight, reducing aggravating food items, increasing the height of the head side of the bed, and medications like antacids, H2 receptor antagonists, and proton pump inhibitors. This condition can occur at all ages and in both sexes. An untreated or severe condition may cause permanent damage in the lower esophagus or even changes of malignancy. Ayurvedic herbal treatment for Gastro Esophageal Reflux Disease (GERD) Ayurvedic herbal treatment is very effective in the treatment of GERD. Treatment is given to reduce acid output, improve digestion, improve mucosal immunity, heal ulceration and improve the mobility of esophagus as well as the functioning of the lower esophagus sphincter. Ayurved Medicines is safe and highly effective Treatment needs to be given for periods ranging from three to six months, depending upon the severity of the condition and the response of individual patients. Those who have a severe problem and do not respond to standard oral medication can also be given Panchkarma procedures like Vaman (induced emesis) or Virechan (induced purgation). These procedures are then followed up with oral medication which helps even patients with severe condition to have prolonged remission or a complete cure. Lifestyle modifications and diet control are also very important in the management of GERD. DR ANURAG JAIN (MD AYURVED) Chief Consultant Ayurved & Panch Karma AYURVED FOUNDATION AYURVED PANCH KARMA CENTRE M 8 Amar Darshan, Saket Anand Bazar Square, Near Saket Pan Corner, Indore (M.P.) website- www.panchkarmaayurved.com www.ayurvedfoundation.com Ph. 98268 02221, 94253 11773  
Send Enquiry
Read More
More updates

Our Services

Hair Fall Treatment
VIEW MORE

Our Services

Frozen Shoulder (अवबाहुक @ अंससंfधग्रह) Treatment in Indore
VIEW MORE

Our Services

Parkinson Disease - कंपवात
VIEW MORE
View all Services

Latest photos

More photos

More information